Google+ Followers

Wednesday, August 24, 2016

आप सभी को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के पावन पर्व पर हार्दिक शुभकामनाएं! व्यक्ति और व्यक्तित्व में कृष्ण का मतलब काली काया वाला व्यक्ति नहीं बल्कि कृष्ण वह वह है जो व्यक्ति/सम्पूर्ण जगत/व्यक्ति समूह के कलुष/कालिमा को स्वयं हर कर व्यक्ति/जगत को कलुष मुक्त कर स्वच्छ करे और उसे ज्योतिर्मान करे। >>>>>>>>>>> विवेक/त्रयम्बक/त्रिनेत्र/त्रिलोचन (शिव और शिवा:सती:पारवती की आतंरिक सुरक्षा शक्ति) ((बस्ती जनपद से आकर रामापुर-223225 (आजमगढ़ स्थित) समेत 5 गाँव ((ओरिल: रामापुर (500 बीघा मूल क्षेत्र) +गुमकोठी+बागबहार+लग्गुपुर+औराडार)) को एक मुस्लिम(इस्लाम अनुयायी क्षत्रिय परिवार) जागीरदार से दान में पाये सनातन कश्यप गोत्रीय त्रिफला(बेलपत्र: बिल्वपत्र:शिव और शिवा का आभूषण/आहार/अरपणेय/अर्पण्य/अस्तित्व रहा तो स्वयं शिव बना) पाण्डेय ब्राह्मण बाबा सारंगधर:चंद्रशेखर:महादेव:शिव कुल के देवव्रत(गंगापुत्र)/.../रामप्रसाद/बचनराम(बेचनराम)/प्रदीप:सूर्यकांत:सूर्यस्वामी: आदित्यनाथ:सत्यनारायण: रामजानकी:रामा का पुत्र और गोरखपुर/गोरक्षपुर से आकर बिशुनपुर-223103 (जौनपुर स्थित) जैसे मूलतः 300 बीघे के एक गाँव को एक क्षत्रिय जागीरदार से दान में पाये सनातन गौतम गोत्रीय व्याशी(वशिष्ठ कुल के व्यासः से व्याशी तो कश्यप का गुरु हो सकता है) मिश्रा ब्राह्मण निवाजी बाबा के रामानंद/----/रामप्रसाद/ रमानाथ:विष्णु (+पारसनाथ:शिव)/श्रीकांत(+श्रीधर:विष्णु+श्रीप्रकाश) कुल का नाती, विवेक(सरस्वती का ज्येष्ठ मानस पुत्र)/त्रयम्बक/त्रिलोचन/त्रिनेत्र /सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम/महाशिव (शिव व् शिवा:सती:पार्वती की भी आतंरिक सुरक्षा शक्ति) जिसकी आंतरिक शक्ति राशिनाम गिरिधर/ गोवर्धनधारी श्रीकृष्ण/11 शिवावतार धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/धरणीधर शेषनाग(लक्ष्मण)/मरुधर (मदिराचलधारी) कुर्मावतारी विष्णु))|| [[ विवेक ((विवेक/सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम(महाशिव)) Born (Actual) on 11-11-1975, 9.15 AM,Tuesday (मंगलवार, कार्तिक शुक्ल पक्ष अस्टमी=गोपा/गोपी/गोवर्धन/गिरिधर/गिरिधारी:इंद्रजीत अस्टमी) ११ नवम्बर विशेष दिन: राष्ट्रीय शिक्षा दिवस, नक्षत्र: धनिष्ठा, राशि: 1/2 कुम्भ, 1/2 मकर राशि और राशिनाम: गिरिधर((गोवर्धन धारी श्रीकृष्ण, मेरु:मदिराचलधारी कुर्मावतारी विष्णु, धरणीधर शेषनाग((लक्ष्मण)), धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/11th शिव अवतार)) शासकीय प्रमाणपत्र में जन्म तिथि: 1-08-1976 (तथाकथित दलित गुरु, श्री धनराज हरिजन (धंजू)द्वारा दी गयी जन्म तिथि)]]|| *******जय हिन्द ((जम्बूद्वीप=यूरेशिया=यूरोप +एशिया) या कम से कम ईरान से लेकर सिंगापुर और कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी)), जय भारत(अखंडभारत=भरतखंड=भारतवर्ष), जय श्रीराम/कृष्ण।

आप सभी को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के पावन पर्व पर हार्दिक शुभकामनाएं!   व्यक्ति और व्यक्तित्व में कृष्ण का मतलब काली काया वाला व्यक्ति नहीं बल्कि कृष्ण वह वह है जो व्यक्ति/सम्पूर्ण जगत/व्यक्ति समूह के कलुष/कालिमा को स्वयं हर कर व्यक्ति/जगत को कलुष मुक्त कर स्वच्छ करे और उसे ज्योतिर्मान करे।   >>>>>>>>>>> विवेक/त्रयम्बक/त्रिनेत्र/त्रिलोचन (शिव और शिवा:सती:पारवती की आतंरिक सुरक्षा शक्ति) ((बस्ती जनपद से आकर रामापुर-223225 (आजमगढ़ स्थित) समेत 5 गाँव ((ओरिल: रामापुर (500 बीघा मूल क्षेत्र) +गुमकोठी+बागबहार+लग्गुपुर+औराडार)) को एक मुस्लिम(इस्लाम अनुयायी क्षत्रिय परिवार) जागीरदार से दान में पाये सनातन कश्यप गोत्रीय त्रिफला(बेलपत्र: बिल्वपत्र:शिव और शिवा का आभूषण/आहार/अरपणेय/अर्पण्य/अस्तित्व रहा तो स्वयं शिव बना) पाण्डेय ब्राह्मण बाबा सारंगधर:चंद्रशेखर:महादेव:शिव कुल के देवव्रत(गंगापुत्र)/.../रामप्रसाद/बचनराम(बेचनराम)/प्रदीप:सूर्यकांत:सूर्यस्वामी: आदित्यनाथ:सत्यनारायण: रामजानकी:रामा का पुत्र और गोरखपुर/गोरक्षपुर से आकर बिशुनपुर-223103 (जौनपुर स्थित) जैसे मूलतः 300 बीघे के एक गाँव को एक क्षत्रिय जागीरदार से दान में पाये सनातन गौतम गोत्रीय व्याशी(वशिष्ठ कुल के व्यासः से व्याशी तो कश्यप का गुरु हो सकता है) मिश्रा ब्राह्मण निवाजी बाबा के रामानंद/----/रामप्रसाद/ रमानाथ:विष्णु (+पारसनाथ:शिव)/श्रीकांत(+श्रीधर:विष्णु+श्रीप्रकाश) कुल का नाती, विवेक(सरस्वती का ज्येष्ठ मानस पुत्र)/त्रयम्बक/त्रिलोचन/त्रिनेत्र /सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम/महाशिव (शिव व् शिवा:सती:पार्वती की भी आतंरिक सुरक्षा शक्ति) जिसकी आंतरिक शक्ति राशिनाम गिरिधर/ गोवर्धनधारी श्रीकृष्ण/11 शिवावतार धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/धरणीधर शेषनाग(लक्ष्मण)/मरुधर (मदिराचलधारी) कुर्मावतारी विष्णु))|| [[ विवेक ((विवेक/सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम(महाशिव)) Born (Actual) on 11-11-1975, 9.15 AM,Tuesday (मंगलवार, कार्तिक शुक्ल पक्ष अस्टमी=गोपा/गोपी/गोवर्धन/गिरिधर/गिरिधारी:इंद्रजीत अस्टमी) ११ नवम्बर विशेष दिन: राष्ट्रीय शिक्षा दिवस, नक्षत्र: धनिष्ठा, राशि: 1/2 कुम्भ, 1/2 मकर राशि और राशिनाम: गिरिधर((गोवर्धन धारी श्रीकृष्ण, मेरु:मदिराचलधारी कुर्मावतारी विष्णु, धरणीधर शेषनाग((लक्ष्मण)), धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/11th शिव अवतार)) शासकीय प्रमाणपत्र में जन्म तिथि: 1-08-1976 (तथाकथित दलित गुरु, श्री धनराज हरिजन (धंजू)द्वारा दी गयी जन्म तिथि)]]|| *******जय हिन्द ((जम्बूद्वीप=यूरेशिया=यूरोप +एशिया) या कम से कम ईरान से लेकर सिंगापुर और कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी)), जय भारत(अखंडभारत=भरतखंड=भारतवर्ष), जय श्रीराम/कृष्ण।

केदारेश्वर बनर्जी वायुमंडलीय एवं महासागर अध्ध्य्यन केंद्र, प्रयागराज विश्विद्यालय, प्रयागराज 2001 में मेरे नजर में यह था नाना, मामा, सगोत्री बड़े भाई और जीजा, ममेरे भाई, छोटे मामा और सगोत्रीय छोटे भाई (सावर्ण=केवल ब्राह्मण कुल सम्भव स्वयं सूर्यउपासक सावर्ण ऋषी के कथनानुसार जिनकी व्युत्पत्ति कश्यप द्वारा ही हुई है सूर्यवंश के प्रणेता सूर्यबल और चंद्रवंश के प्रणेता चन्द्रबल समकालीन और कश्यप और उनकी द्वितीय पत्नी अदिति के पुत्र आदित्य से इन तीनो की उत्पत्ति उसी तरह हुई जैसे की इंद्र और विश्वकर्मा और समस्त पञ्च देवता)। इस पर टिप्पणी करे कोई समाजिक न्यायवादी या न्यायलय तो मैं उत्तर दूंगा पहचान समेत? मेरे दृष्टि और क्षमता-मेधा-कुशाग्रता आप पहचानिये? >>>>>>>>>>> विवेक/त्रयम्बक/त्रिनेत्र/त्रिलोचन (शिव और शिवा:सती:पारवती की आतंरिक सुरक्षा शक्ति) ((बस्ती जनपद से आकर रामापुर-223225 (आजमगढ़ स्थित) समेत 5 गाँव ((ओरिल: रामापुर (500 बीघा मूल क्षेत्र) +गुमकोठी+बागबहार+लग्गुपुर+औराडार)) को एक मुस्लिम(इस्लाम अनुयायी क्षत्रिय परिवार) जागीरदार से दान में पाये सनातन कश्यप गोत्रीय त्रिफला(बेलपत्र: बिल्वपत्र:शिव और शिवा का आभूषण/आहार/अरपणेय/अर्पण्य/अस्तित्व रहा तो स्वयं शिव बना) पाण्डेय ब्राह्मण बाबा सारंगधर:चंद्रशेखर:महादेव:शिव कुल के देवव्रत(गंगापुत्र)/.../रामप्रसाद/बचनराम(बेचनराम)/प्रदीप:सूर्यकांत:सूर्यस्वामी: आदित्यनाथ:सत्यनारायण: रामजानकी:रामा का पुत्र और गोरखपुर/गोरक्षपुर से आकर बिशुनपुर-223103 (जौनपुर स्थित) जैसे मूलतः 300 बीघे के एक गाँव को एक क्षत्रिय जागीरदार से दान में पाये सनातन गौतम गोत्रीय व्याशी(वशिष्ठ कुल के व्यासः से व्याशी तो कश्यप का गुरु हो सकता है) मिश्रा ब्राह्मण निवाजी बाबा के रामानंद/----/रामप्रसाद/ रमानाथ:विष्णु (+पारसनाथ:शिव)/श्रीकांत(+श्रीधर:विष्णु+श्रीप्रकाश) कुल का नाती, विवेक(सरस्वती का ज्येष्ठ मानस पुत्र)/त्रयम्बक/त्रिलोचन/त्रिनेत्र /सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम/महाशिव (शिव व् शिवा:सती:पार्वती की भी आतंरिक सुरक्षा शक्ति) जिसकी आंतरिक शक्ति राशिनाम गिरिधर/ गोवर्धनधारी श्रीकृष्ण/11 शिवावतार धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/धरणीधर शेषनाग(लक्ष्मण)/मरुधर (मदिराचलधारी) कुर्मावतारी विष्णु))|| [[ विवेक ((विवेक/सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम(महाशिव)) Born (Actual) on 11-11-1975, 9.15 AM,Tuesday (मंगलवार, कार्तिक शुक्ल पक्ष अस्टमी=गोपा/गोपी/गोवर्धन/गिरिधर/गिरिधारी:इंद्रजीत अस्टमी) ११ नवम्बर विशेष दिन: राष्ट्रीय शिक्षा दिवस, नक्षत्र: धनिष्ठा, राशि: 1/2 कुम्भ, 1/2 मकर राशि और राशिनाम: गिरिधर((गोवर्धन धारी श्रीकृष्ण, मेरु:मदिराचलधारी कुर्मावतारी विष्णु, धरणीधर शेषनाग((लक्ष्मण)), धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/11th शिव अवतार)) शासकीय प्रमाणपत्र में जन्म तिथि: 1-08-1976 (तथाकथित दलित गुरु, श्री धनराज हरिजन (धंजू)द्वारा दी गयी जन्म तिथि)]]|| *******जय हिन्द ((जम्बूद्वीप=यूरेशिया=यूरोप +एशिया) या कम से कम ईरान से लेकर सिंगापुर और कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी)), जय भारत(अखंडभारत=भरतखंड=भारतवर्ष), जय श्रीराम/कृष्ण।

केदारेश्वर बनर्जी वायुमंडलीय एवं महासागर अध्ध्य्यन केंद्र, प्रयागराज विश्विद्यालय, प्रयागराज 2001 में मेरे नजर में यह था नाना, मामा, सगोत्री बड़े भाई और जीजा, ममेरे भाई, छोटे मामा और सगोत्रीय छोटे भाई (सावर्ण=केवल ब्राह्मण कुल सम्भव स्वयं सूर्यउपासक सावर्ण ऋषी के कथनानुसार जिनकी व्युत्पत्ति कश्यप द्वारा ही हुई है सूर्यवंश के प्रणेता सूर्यबल और चंद्रवंश के प्रणेता चन्द्रबल समकालीन और कश्यप और उनकी द्वितीय पत्नी अदिति के पुत्र आदित्य से इन तीनो की उत्पत्ति उसी तरह हुई जैसे की इंद्र और विश्वकर्मा और समस्त पञ्च देवता)। इस पर टिप्पणी करे कोई समाजिक न्यायवादी या न्यायलय तो मैं उत्तर दूंगा पहचान समेत? मेरे दृष्टि और क्षमता-मेधा-कुशाग्रता आप पहचानिये? >>>>>>>>>>> विवेक/त्रयम्बक/त्रिनेत्र/त्रिलोचन (शिव और शिवा:सती:पारवती की आतंरिक सुरक्षा शक्ति) ((बस्ती जनपद से आकर रामापुर-223225 (आजमगढ़ स्थित) समेत 5 गाँव ((ओरिल: रामापुर (500 बीघा मूल क्षेत्र) +गुमकोठी+बागबहार+लग्गुपुर+औराडार)) को एक मुस्लिम(इस्लाम अनुयायी क्षत्रिय परिवार) जागीरदार से दान में पाये सनातन कश्यप गोत्रीय त्रिफला(बेलपत्र: बिल्वपत्र:शिव और शिवा का आभूषण/आहार/अरपणेय/अर्पण्य/अस्तित्व रहा तो स्वयं शिव बना) पाण्डेय ब्राह्मण बाबा सारंगधर:चंद्रशेखर:महादेव:शिव कुल के देवव्रत(गंगापुत्र)/.../रामप्रसाद/बचनराम(बेचनराम)/प्रदीप:सूर्यकांत:सूर्यस्वामी: आदित्यनाथ:सत्यनारायण: रामजानकी:रामा का पुत्र और गोरखपुर/गोरक्षपुर से आकर बिशुनपुर-223103 (जौनपुर स्थित) जैसे मूलतः 300 बीघे के एक गाँव को एक क्षत्रिय जागीरदार से दान में पाये सनातन गौतम गोत्रीय व्याशी(वशिष्ठ कुल के व्यासः से व्याशी तो कश्यप का गुरु हो सकता है) मिश्रा ब्राह्मण निवाजी बाबा के रामानंद/----/रामप्रसाद/ रमानाथ:विष्णु (+पारसनाथ:शिव)/श्रीकांत(+श्रीधर:विष्णु+श्रीप्रकाश) कुल का नाती, विवेक(सरस्वती का ज्येष्ठ मानस पुत्र)/त्रयम्बक/त्रिलोचन/त्रिनेत्र /सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम/महाशिव (शिव व् शिवा:सती:पार्वती की भी आतंरिक सुरक्षा शक्ति) जिसकी आंतरिक शक्ति राशिनाम गिरिधर/ गोवर्धनधारी श्रीकृष्ण/11 शिवावतार धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/धरणीधर शेषनाग(लक्ष्मण)/मरुधर (मदिराचलधारी) कुर्मावतारी विष्णु))|| [[ विवेक ((विवेक/सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम(महाशिव)) Born (Actual) on 11-11-1975, 9.15 AM,Tuesday (मंगलवार, कार्तिक शुक्ल पक्ष अस्टमी=गोपा/गोपी/गोवर्धन/गिरिधर/गिरिधारी:इंद्रजीत अस्टमी) ११ नवम्बर विशेष दिन: राष्ट्रीय शिक्षा दिवस, नक्षत्र: धनिष्ठा, राशि: 1/2 कुम्भ, 1/2 मकर राशि और राशिनाम: गिरिधर((गोवर्धन धारी श्रीकृष्ण, मेरु:मदिराचलधारी कुर्मावतारी विष्णु, धरणीधर शेषनाग((लक्ष्मण)), धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/11th शिव अवतार)) शासकीय प्रमाणपत्र में जन्म तिथि: 1-08-1976 (तथाकथित दलित गुरु, श्री धनराज हरिजन (धंजू)द्वारा दी गयी जन्म तिथि)]]|| *******जय हिन्द ((जम्बूद्वीप=यूरेशिया=यूरोप +एशिया) या कम से कम ईरान से लेकर सिंगापुर और कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी)), जय भारत(अखंडभारत=भरतखंड=भारतवर्ष), जय श्रीराम/कृष्ण।

Tuesday, August 23, 2016

कूर्मावतारियों की स्वयं कूर्मावतारी और आंगिरास पुत्र भरद्वाज (उनके शिष्य गर्ग) के बीच प्रयागराज/अल्लाहाबाद/अल्लाह आबाद/ अल्लाह आवास/ इला आवास/ इला आबाद/त्रिसंगम/त्रिवेणी में बहुत चली बन्दर बाँट आंगिरास पुत्र भरद्वाज (उनके शिष्य गर्ग) को शर्म और भय के आगोस लेकर पर अब इस प्रयागराज/अल्लाहाबाद/त्रिसंगम/त्रिवेणी पर प्राक्यज्ञ युग की तरह पुनः सातों ब्रह्मर्षियों=सातो सप्तर्षियों के हर जाति/धर्म के लोगों का बराबर बराबर प्रतिनिधित्व व् अधिकार प्राप्त हो चुका है तो अब वह पुरानी कूर्मावतारियों की स्वयं कूर्मावतारी और आंगिरास पुत्र भरद्वाज (उनके शिष्य गर्ग) के बीच प्रयागराज/अल्लाहाबाद/त्रिसंगम/त्रिवेणी में बंदरबांट नहीं चलेगी वरन कश्यप, गौतम, वशिष्ठ (व्यासः, शांडिल्य, उपमन्यु), आंगिरस (भरद्वाज), भृगु (जमदग्नि), अत्रि(कृष्णात्रेय:दुर्वाशा, दत्तात्रेय, सोमात्रेय) और कौशिक (विश्वरथ:विश्वामित्र) सबके बीच बराबर बंटवारा होगा। क्योंकि ब्रह्मा द्वारा आहूत और विष्णु और शिव द्वारा पूरित इस सृष्टि के सबसे प्राचीन प्रकृष्टा=सप्तर्षि प्राकट्य यज्ञ में ये सभी सातो ब्रह्मर्षि प्रकट हुए थे तो इन सभी के हर जाति/धर्म के लोगों के बीच समान हिस्सा लगेगा इस प्रयागराज में। कूर्मावतारियों की स्वयं कूर्मावतारी और आंगिरास पुत्र भरद्वाज (उनके शिष्य गर्ग) के बीच प्रयागराज/अल्लाहाबाद/अल्लाह आबाद/ अल्लाह आवास/ इला आवास/ इला आबाद/त्रिसंगम/त्रिवेणी में बहुत चली बन्दर बाँट आंगिरास पुत्र भरद्वाज (उनके शिष्य गर्ग) को शर्म और भय के आगोस लेकर पर अब इस प्रयागराज/अल्लाहाबाद/त्रिसंगम/त्रिवेणी पर प्राक्यज्ञ युग की तरह पुनः सातों ब्रह्मर्षियों=सातो सप्तर्षियों के हर जाति/धर्म के लोगों का बराबर बराबर प्रतिनिधित्व व् अधिकार प्राप्त हो चुका है तो अब वह पुरानी कूर्मावतारियों की स्वयं कूर्मावतारी और आंगिरास पुत्र भरद्वाज (उनके शिष्य गर्ग) के बीच प्रयागराज/अल्लाहाबाद/त्रिसंगम/त्रिवेणी में बंदरबांट नहीं चलेगी वरन कश्यप, गौतम, वशिष्ठ (व्यासः, शांडिल्य, उपमन्यु), आंगिरस (भरद्वाज), भृगु (जमदग्नि), अत्रि(कृष्णात्रेय:दुर्वाशा, दत्तात्रेय, सोमात्रेय) और कौशिक (विश्वरथ:विश्वामित्र) सबके बीच बराबर बंटवारा होगा। क्योंकि ब्रह्मा द्वारा आहूत और विष्णु और शिव द्वारा पूरित इस सृष्टि के सबसे प्राचीन प्रकृष्टा=सप्तर्षि प्राकट्य यज्ञ में ये सभी सातो ब्रह्मर्षि प्रकट हुए थे तो इन सभी के हर जाति/धर्म के लोगों के बीच समान हिस्सा लगेगा इस प्रयागराज में। >>>>>>>>>>> विवेक/त्रयम्बक/त्रिनेत्र/त्रिलोचन (शिव और शिवा:सती:पारवती की आतंरिक सुरक्षा शक्ति) ((बस्ती जनपद से आकर रामापुर-223225 (आजमगढ़ स्थित) समेत 5 गाँव ((ओरिल: रामापुर (500 बीघा मूल क्षेत्र) +गुमकोठी+बागबहार+लग्गुपुर+औराडार)) को एक मुस्लिम(इस्लाम अनुयायी क्षत्रिय परिवार) जागीरदार से दान में पाये सनातन कश्यप गोत्रीय त्रिफला(बेलपत्र: बिल्वपत्र:शिव और शिवा का आभूषण/आहार/अरपणेय/अर्पण्य/अस्तित्व रहा तो स्वयं शिव बना) पाण्डेय ब्राह्मण बाबा सारंगधर:चंद्रशेखर:महादेव:शिव कुल के देवव्रत(गंगापुत्र)/.../रामप्रसाद/बचनराम(बेचनराम)/प्रदीप:सूर्यकांत:सूर्यस्वामी: आदित्यनाथ:सत्यनारायण: रामजानकी:रामा का पुत्र और गोरखपुर/गोरक्षपुर से आकर बिशुनपुर-223103 (जौनपुर स्थित) जैसे मूलतः 300 बीघे के एक गाँव को एक क्षत्रिय जागीरदार से दान में पाये सनातन गौतम गोत्रीय व्याशी(वशिष्ठ कुल के व्यासः से व्याशी तो कश्यप का गुरु हो सकता है) मिश्रा ब्राह्मण निवाजी बाबा के रामानंद/----/रामप्रसाद/ रमानाथ:विष्णु (+पारसनाथ:शिव)/श्रीकांत(+श्रीधर:विष्णु+श्रीप्रकाश) कुल का नाती, विवेक(सरस्वती का ज्येष्ठ मानस पुत्र)/त्रयम्बक/त्रिलोचन/त्रिनेत्र /सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम/महाशिव (शिव व् शिवा:सती:पार्वती की भी आतंरिक सुरक्षा शक्ति) जिसकी आंतरिक शक्ति राशिनाम गिरिधर/ गोवर्धनधारी श्रीकृष्ण/11 शिवावतार धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/धरणीधर शेषनाग(लक्ष्मण)/मरुधर (मदिराचलधारी) कुर्मावतारी विष्णु))|| [[ विवेक ((विवेक/सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम(महाशिव)) Born (Actual) on 11-11-1975, 9.15 AM,Tuesday (मंगलवार, कार्तिक शुक्ल पक्ष अस्टमी=गोपा/गोपी/गोवर्धन/गिरिधर/गिरिधारी:इंद्रजीत अस्टमी) ११ नवम्बर विशेष दिन: राष्ट्रीय शिक्षा दिवस, नक्षत्र: धनिष्ठा, राशि: 1/2 कुम्भ, 1/2 मकर राशि और राशिनाम: गिरिधर((गोवर्धन धारी श्रीकृष्ण, मेरु:मदिराचलधारी कुर्मावतारी विष्णु, धरणीधर शेषनाग((लक्ष्मण)), धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/11th शिव अवतार)) शासकीय प्रमाणपत्र में जन्म तिथि: 1-08-1976 (तथाकथित दलित गुरु, श्री धनराज हरिजन (धंजू)द्वारा दी गयी जन्म तिथि)]]|| *******जय हिन्द ((जम्बूद्वीप=यूरेशिया=यूरोप +एशिया) या कम से कम ईरान से लेकर सिंगापुर और कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी)), जय भारत(अखंडभारत=भरतखंड=भारतवर्ष), जय श्रीराम/कृष्ण।

कूर्मावतारियों की स्वयं कूर्मावतारी और आंगिरास पुत्र भरद्वाज (उनके शिष्य गर्ग) के बीच प्रयागराज/अल्लाहाबाद/अल्लाह आबाद/ अल्लाह आवास/ इला आवास/ इला आबाद/त्रिसंगम/त्रिवेणी में बहुत चली बन्दर बाँट आंगिरास पुत्र भरद्वाज (उनके शिष्य गर्ग) को शर्म और भय के आगोस लेकर पर अब इस प्रयागराज/अल्लाहाबाद/त्रिसंगम/त्रिवेणी पर प्राक्यज्ञ युग की तरह पुनः सातों ब्रह्मर्षियों=सातो सप्तर्षियों के हर जाति/धर्म के लोगों का बराबर बराबर प्रतिनिधित्व व् अधिकार प्राप्त हो चुका है तो अब वह पुरानी कूर्मावतारियों की स्वयं कूर्मावतारी और आंगिरास पुत्र भरद्वाज (उनके शिष्य गर्ग) के बीच प्रयागराज/अल्लाहाबाद/त्रिसंगम/त्रिवेणी में बंदरबांट नहीं चलेगी वरन कश्यप, गौतम, वशिष्ठ (व्यासः, शांडिल्य, उपमन्यु), आंगिरस (भरद्वाज), भृगु (जमदग्नि), अत्रि(कृष्णात्रेय:दुर्वाशा, दत्तात्रेय, सोमात्रेय) और कौशिक (विश्वरथ:विश्वामित्र) सबके बीच बराबर  बंटवारा होगा। क्योंकि ब्रह्मा द्वारा आहूत और विष्णु और शिव द्वारा पूरित इस सृष्टि के सबसे प्राचीन प्रकृष्टा=सप्तर्षि प्राकट्य यज्ञ में ये सभी सातो ब्रह्मर्षि प्रकट हुए थे तो इन सभी के हर जाति/धर्म के लोगों के बीच समान हिस्सा लगेगा इस प्रयागराज में। कूर्मावतारियों की स्वयं कूर्मावतारी और आंगिरास पुत्र भरद्वाज (उनके शिष्य गर्ग) के बीच प्रयागराज/अल्लाहाबाद/अल्लाह आबाद/ अल्लाह आवास/ इला आवास/ इला आबाद/त्रिसंगम/त्रिवेणी में बहुत चली बन्दर बाँट आंगिरास पुत्र भरद्वाज (उनके शिष्य गर्ग) को शर्म और भय के आगोस लेकर पर अब इस प्रयागराज/अल्लाहाबाद/त्रिसंगम/त्रिवेणी पर प्राक्यज्ञ युग की तरह पुनः सातों ब्रह्मर्षियों=सातो सप्तर्षियों के हर जाति/धर्म के लोगों का बराबर बराबर प्रतिनिधित्व व् अधिकार प्राप्त हो चुका है तो अब वह पुरानी कूर्मावतारियों की स्वयं कूर्मावतारी और आंगिरास पुत्र भरद्वाज (उनके शिष्य गर्ग) के बीच प्रयागराज/अल्लाहाबाद/त्रिसंगम/त्रिवेणी में बंदरबांट नहीं चलेगी वरन कश्यप, गौतम, वशिष्ठ (व्यासः, शांडिल्य, उपमन्यु), आंगिरस (भरद्वाज), भृगु (जमदग्नि), अत्रि(कृष्णात्रेय:दुर्वाशा, दत्तात्रेय, सोमात्रेय) और कौशिक (विश्वरथ:विश्वामित्र) सबके बीच बराबर बंटवारा होगा। क्योंकि ब्रह्मा द्वारा आहूत और विष्णु और शिव द्वारा पूरित इस सृष्टि के सबसे प्राचीन प्रकृष्टा=सप्तर्षि प्राकट्य यज्ञ में ये सभी सातो ब्रह्मर्षि प्रकट हुए थे तो इन सभी के हर जाति/धर्म के लोगों के बीच समान हिस्सा लगेगा इस प्रयागराज में। >>>>>>>>>>> विवेक/त्रयम्बक/त्रिनेत्र/त्रिलोचन (शिव और शिवा:सती:पारवती की आतंरिक सुरक्षा शक्ति) ((बस्ती जनपद से आकर रामापुर-223225 (आजमगढ़ स्थित) समेत 5 गाँव ((ओरिल: रामापुर (500 बीघा मूल क्षेत्र) +गुमकोठी+बागबहार+लग्गुपुर+औराडार)) को एक मुस्लिम(इस्लाम अनुयायी क्षत्रिय परिवार) जागीरदार से दान में पाये सनातन कश्यप गोत्रीय त्रिफला(बेलपत्र: बिल्वपत्र:शिव और शिवा का आभूषण/आहार/अरपणेय/अर्पण्य/अस्तित्व रहा तो स्वयं शिव बना) पाण्डेय ब्राह्मण बाबा सारंगधर:चंद्रशेखर:महादेव:शिव कुल के देवव्रत(गंगापुत्र)/.../रामप्रसाद/बचनराम(बेचनराम)/प्रदीप:सूर्यकांत:सूर्यस्वामी: आदित्यनाथ:सत्यनारायण: रामजानकी:रामा का पुत्र और गोरखपुर/गोरक्षपुर से आकर बिशुनपुर-223103 (जौनपुर स्थित) जैसे मूलतः 300 बीघे के एक गाँव को एक क्षत्रिय जागीरदार से दान में पाये सनातन गौतम गोत्रीय व्याशी(वशिष्ठ कुल के व्यासः से व्याशी तो कश्यप का गुरु हो सकता है) मिश्रा ब्राह्मण निवाजी बाबा के रामानंद/----/रामप्रसाद/ रमानाथ:विष्णु (+पारसनाथ:शिव)/श्रीकांत(+श्रीधर:विष्णु+श्रीप्रकाश) कुल का नाती, विवेक(सरस्वती का ज्येष्ठ मानस पुत्र)/त्रयम्बक/त्रिलोचन/त्रिनेत्र /सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम/महाशिव (शिव व् शिवा:सती:पार्वती की भी आतंरिक सुरक्षा शक्ति) जिसकी आंतरिक शक्ति राशिनाम गिरिधर/ गोवर्धनधारी श्रीकृष्ण/11 शिवावतार धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/धरणीधर शेषनाग(लक्ष्मण)/मरुधर (मदिराचलधारी) कुर्मावतारी विष्णु))|| [[ विवेक ((विवेक/सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम(महाशिव)) Born (Actual) on 11-11-1975, 9.15 AM,Tuesday (मंगलवार, कार्तिक शुक्ल पक्ष अस्टमी=गोपा/गोपी/गोवर्धन/गिरिधर/गिरिधारी:इंद्रजीत अस्टमी) ११ नवम्बर विशेष दिन: राष्ट्रीय शिक्षा दिवस, नक्षत्र: धनिष्ठा, राशि: 1/2 कुम्भ, 1/2 मकर राशि और राशिनाम: गिरिधर((गोवर्धन धारी श्रीकृष्ण, मेरु:मदिराचलधारी कुर्मावतारी विष्णु, धरणीधर शेषनाग((लक्ष्मण)), धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/11th शिव अवतार)) शासकीय प्रमाणपत्र में जन्म तिथि: 1-08-1976 (तथाकथित दलित गुरु, श्री धनराज हरिजन (धंजू)द्वारा दी गयी जन्म तिथि)]]|| *******जय हिन्द ((जम्बूद्वीप=यूरेशिया=यूरोप +एशिया) या कम से कम ईरान से लेकर सिंगापुर और कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी)), जय भारत(अखंडभारत=भरतखंड=भारतवर्ष), जय श्रीराम/कृष्ण।

कुर्मावतारी समाज ! जब मैं ही डॉन (भगवा=सशरीर परमब्रह्म=सशरीर ब्रह्म)) और मैं ही तिरंगा (त्रिदेव=ब्रह्मा, विष्णु और महेश)) तो फिर मेरे स्वयंसेवकत्व और ब्राह्मणत्व-क्षत्रित्व-वैष्णवत्व की कौन सी परिक्षा कोई लेगा? और मेरी परिक्षा लेने वाला कौन शेष बचता है ? मतलब कोई भी ऐसा व्यक्ति जो इस संसार ((सृष्टि (सीता=जगत जननी=जगदम्बा=दुर्गा) के संरक्षण में जीवित चर)) को चलने देना चाहता है या नहीं भी चलने देना चाहता है वह मेरी परिक्षा लेने के काबिल तब होगा जो उस गोरखपुर/गोरक्षपुर से आकर बिशुनपुर-223103 (जौनपुर स्थित) जैसे मूलतः 300 बीघे के एक गाँव को एक क्षत्रिय जागीरदार से दान में पाये सनातन गौतम गोत्रीय व्याशी(वशिष्ठ कुल के व्यासः से व्याशी तो कश्यप का गुरु हो सकता है) मिश्रा ब्राह्मण निवाजी बाबा के रामानंद/----/रामप्रसाद/ रमानाथ:विष्णु (+पारसनाथ:शिव)/श्रीकांत(+श्रीधर:विष्णु+ श्रीप्रकाश) कुल रामानंद कुल के मूल घर जहां अदृश्य भगवा निर्बाधगति से लहराता रहता है पर मेरी तरह 11 वर्ष रहकर मेरे जैसा ही सात्विक जीवन का निर्वहन किया हो? >>>>>>>>>>> विवेक/त्रयम्बक/त्रिनेत्र/त्रिलोचन (शिव और शिवा:सती:पारवती की आतंरिक सुरक्षा शक्ति) ((बस्ती जनपद से आकर रामापुर-223225 (आजमगढ़ स्थित) समेत 5 गाँव ((ओरिल: रामापुर (500 बीघा मूल क्षेत्र) +गुमकोठी+बागबहार+लग्गुपुर+औराडार)) को एक मुस्लिम(इस्लाम अनुयायी क्षत्रिय परिवार) जागीरदार से दान में पाये सनातन कश्यप गोत्रीय त्रिफला(बेलपत्र: बिल्वपत्र:शिव और शिवा का आभूषण/आहार/अरपणेय/अर्पण्य/अस्तित्व रहा तो स्वयं शिव बना) पाण्डेय ब्राह्मण बाबा सारंगधर:चंद्रशेखर:महादेव:शिव कुल के देवव्रत(गंगापुत्र)/.../रामप्रसाद/बचनराम(बेचनराम)/प्रदीप:सूर्यकांत:सूर्यस्वामी: आदित्यनाथ:सत्यनारायण: रामजानकी:रामा का पुत्र और गोरखपुर/गोरक्षपुर से आकर बिशुनपुर-223103 (जौनपुर स्थित) जैसे मूलतः 300 बीघे के एक गाँव को एक क्षत्रिय जागीरदार से दान में पाये सनातन गौतम गोत्रीय व्याशी(वशिष्ठ कुल के व्यासः से व्याशी तो कश्यप का गुरु हो सकता है) मिश्रा ब्राह्मण निवाजी बाबा के रामानंद/----/रामप्रसाद/ रमानाथ:विष्णु (+पारसनाथ:शिव)/श्रीकांत(+श्रीधर:विष्णु+श्रीप्रकाश) कुल का नाती, विवेक(सरस्वती का ज्येष्ठ मानस पुत्र)/त्रयम्बक/त्रिलोचन/त्रिनेत्र /सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम/महाशिव (शिव व् शिवा:सती:पार्वती की भी आतंरिक सुरक्षा शक्ति) जिसकी आंतरिक शक्ति राशिनाम गिरिधर/ गोवर्धनधारी श्रीकृष्ण/11 शिवावतार धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/धरणीधर शेषनाग(लक्ष्मण)/मरुधर (मदिराचलधारी) कुर्मावतारी विष्णु))|| [[ विवेक ((विवेक/सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम(महाशिव)) Born (Actual) on 11-11-1975, 9.15 AM,Tuesday (मंगलवार, कार्तिक शुक्ल पक्ष अस्टमी=गोपा/गोपी/गोवर्धन/गिरिधर/गिरिधारी:इंद्रजीत अस्टमी) ११ नवम्बर विशेष दिन: राष्ट्रीय शिक्षा दिवस, नक्षत्र: धनिष्ठा, राशि: 1/2 कुम्भ, 1/2 मकर राशि और राशिनाम: गिरिधर((गोवर्धन धारी श्रीकृष्ण, मेरु:मदिराचलधारी कुर्मावतारी विष्णु, धरणीधर शेषनाग((लक्ष्मण)), धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/11th शिव अवतार)) शासकीय प्रमाणपत्र में जन्म तिथि: 1-08-1976 (तथाकथित दलित गुरु, श्री धनराज हरिजन (धंजू)द्वारा दी गयी जन्म तिथि)]]|| *******जय हिन्द ((जम्बूद्वीप=यूरेशिया=यूरोप +एशिया) या कम से कम ईरान से लेकर सिंगापुर और कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी)), जय भारत(अखंडभारत=भरतखंड=भारतवर्ष), जय श्रीराम/कृष्ण।

कुर्मावतारी समाज ! जब मैं ही डॉन (भगवा=सशरीर परमब्रह्म=सशरीर ब्रह्म)) और मैं ही तिरंगा (त्रिदेव=ब्रह्मा, विष्णु और महेश)) तो फिर मेरे स्वयंसेवकत्व और ब्राह्मणत्व-क्षत्रित्व-वैष्णवत्व की कौन सी परिक्षा कोई लेगा? और मेरी परिक्षा लेने वाला कौन शेष बचता है ? मतलब कोई भी ऐसा व्यक्ति जो इस संसार ((सृष्टि (सीता=जगत जननी=जगदम्बा=दुर्गा) के संरक्षण में जीवित चर)) को चलने देना चाहता है या नहीं भी चलने देना चाहता है वह मेरी परिक्षा लेने के काबिल तब होगा जो उस गोरखपुर/गोरक्षपुर से आकर बिशुनपुर-223103 (जौनपुर स्थित) जैसे मूलतः 300 बीघे के एक गाँव को एक क्षत्रिय जागीरदार से दान में पाये सनातन गौतम गोत्रीय व्याशी(वशिष्ठ कुल के व्यासः से व्याशी तो कश्यप का गुरु हो सकता है) मिश्रा ब्राह्मण निवाजी बाबा के रामानंद/----/रामप्रसाद/ रमानाथ:विष्णु (+पारसनाथ:शिव)/श्रीकांत(+श्रीधर:विष्णु+ श्रीप्रकाश) कुल रामानंद कुल के मूल घर जहां अदृश्य भगवा निर्बाधगति से लहराता रहता है पर मेरी तरह 11 वर्ष रहकर मेरे जैसा ही सात्विक जीवन का निर्वहन किया हो? >>>>>>>>>>> विवेक/त्रयम्बक/त्रिनेत्र/त्रिलोचन (शिव और शिवा:सती:पारवती की आतंरिक सुरक्षा शक्ति) ((बस्ती जनपद से आकर रामापुर-223225 (आजमगढ़ स्थित) समेत 5 गाँव ((ओरिल: रामापुर (500 बीघा मूल क्षेत्र) +गुमकोठी+बागबहार+लग्गुपुर+औराडार)) को एक मुस्लिम(इस्लाम अनुयायी क्षत्रिय परिवार) जागीरदार से दान में पाये सनातन कश्यप गोत्रीय त्रिफला(बेलपत्र: बिल्वपत्र:शिव और शिवा का आभूषण/आहार/अरपणेय/अर्पण्य/अस्तित्व रहा तो स्वयं शिव बना) पाण्डेय ब्राह्मण बाबा सारंगधर:चंद्रशेखर:महादेव:शिव कुल के देवव्रत(गंगापुत्र)/.../रामप्रसाद/बचनराम(बेचनराम)/प्रदीप:सूर्यकांत:सूर्यस्वामी: आदित्यनाथ:सत्यनारायण: रामजानकी:रामा का पुत्र और गोरखपुर/गोरक्षपुर से आकर बिशुनपुर-223103 (जौनपुर स्थित) जैसे मूलतः 300 बीघे के एक गाँव को एक क्षत्रिय जागीरदार से दान में पाये सनातन गौतम गोत्रीय व्याशी(वशिष्ठ कुल के व्यासः से व्याशी तो कश्यप का गुरु हो सकता है) मिश्रा ब्राह्मण निवाजी बाबा के रामानंद/----/रामप्रसाद/ रमानाथ:विष्णु (+पारसनाथ:शिव)/श्रीकांत(+श्रीधर:विष्णु+श्रीप्रकाश) कुल का नाती, विवेक(सरस्वती का ज्येष्ठ मानस पुत्र)/त्रयम्बक/त्रिलोचन/त्रिनेत्र /सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम/महाशिव (शिव व् शिवा:सती:पार्वती की भी आतंरिक सुरक्षा शक्ति) जिसकी आंतरिक शक्ति राशिनाम गिरिधर/ गोवर्धनधारी श्रीकृष्ण/11 शिवावतार धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/धरणीधर शेषनाग(लक्ष्मण)/मरुधर (मदिराचलधारी) कुर्मावतारी विष्णु))|| [[ विवेक ((विवेक/सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम(महाशिव)) Born (Actual) on 11-11-1975, 9.15 AM,Tuesday (मंगलवार, कार्तिक शुक्ल पक्ष अस्टमी=गोपा/गोपी/गोवर्धन/गिरिधर/गिरिधारी:इंद्रजीत अस्टमी) ११ नवम्बर विशेष दिन: राष्ट्रीय शिक्षा दिवस, नक्षत्र: धनिष्ठा, राशि: 1/2 कुम्भ, 1/2 मकर राशि और राशिनाम: गिरिधर((गोवर्धन धारी श्रीकृष्ण, मेरु:मदिराचलधारी कुर्मावतारी विष्णु, धरणीधर शेषनाग((लक्ष्मण)), धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/11th शिव अवतार)) शासकीय प्रमाणपत्र में जन्म तिथि: 1-08-1976 (तथाकथित दलित गुरु, श्री धनराज हरिजन (धंजू)द्वारा दी गयी जन्म तिथि)]]|| *******जय हिन्द ((जम्बूद्वीप=यूरेशिया=यूरोप +एशिया) या कम से कम ईरान से लेकर सिंगापुर और कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी)), जय भारत(अखंडभारत=भरतखंड=भारतवर्ष), जय श्रीराम/कृष्ण।

कूर्मावतारी समाज का कुछ कुनबा विशेष सक्रियता मेरे विरोध दिखा रहा है तो वह भी समझ ले की काली माई को विशेष रूप से प्रिय पुत्र द्वितीया का चन्द्रमा होता है जो अत्यंत ही चमकीला होता है (जिसे महादेव शिवशंकर अपने मस्तक पर धारण करते हैं) पर आप लोगों का पक्ष लेने के कारण वह द्वितीया का चन्द्रमा (पर नामतः सूर्य था) मेरे लाख शुभकामनाओं और सहायता के बावजूद अब जीवित नहीं रह सका जिनका की काली माई अथाह दुःख है और मुझे भी दुःख है और उस स्थान को आप अपने कुकृत्यों से खाली कर दिए है और उसके जिम्मेदार आप लोग और आप के समर्थक लोग ही हैं। अब ठीक से अपने कर्मों पर विचार कीजिये किशी स्थानीय, राष्ट्रीय या अंतरराष्ट्रीय राजनैतिक शक्ति का सह प्राप्त कर ज्यादा उछलिये नहीं अपने कर्मों पर प्रायश्चित कीजिये और सद्कर्म कीजिये। >>>>>>>>>>> विवेक/त्रयम्बक/त्रिनेत्र/त्रिलोचन (शिव और शिवा:सती:पारवती की आतंरिक सुरक्षा शक्ति) ((बस्ती जनपद से आकर रामापुर-223225 (आजमगढ़ स्थित) समेत 5 गाँव ((ओरिल: रामापुर (500 बीघा मूल क्षेत्र) +गुमकोठी+बागबहार+लग्गुपुर+औराडार)) को एक मुस्लिम(इस्लाम अनुयायी क्षत्रिय परिवार) जागीरदार से दान में पाये सनातन कश्यप गोत्रीय त्रिफला(बेलपत्र: बिल्वपत्र:शिव और शिवा का आभूषण/आहार/अरपणेय/अर्पण्य/अस्तित्व रहा तो स्वयं शिव बना) पाण्डेय ब्राह्मण बाबा सारंगधर:चंद्रशेखर:महादेव:शिव कुल के देवव्रत(गंगापुत्र)/.../रामप्रसाद/बचनराम(बेचनराम)/प्रदीप:सूर्यकांत:सूर्यस्वामी: आदित्यनाथ:सत्यनारायण: रामजानकी:रामा का पुत्र और गोरखपुर/गोरक्षपुर से आकर बिशुनपुर-223103 (जौनपुर स्थित) जैसे मूलतः 300 बीघे के एक गाँव को एक क्षत्रिय जागीरदार से दान में पाये सनातन गौतम गोत्रीय व्याशी(वशिष्ठ कुल के व्यासः से व्याशी तो कश्यप का गुरु हो सकता है) मिश्रा ब्राह्मण निवाजी बाबा के रामानंद/----/रामप्रसाद/ रमानाथ:विष्णु (+पारसनाथ:शिव)/श्रीकांत(+श्रीधर:विष्णु+श्रीप्रकाश) कुल का नाती, विवेक(सरस्वती का ज्येष्ठ मानस पुत्र)/त्रयम्बक/त्रिलोचन/त्रिनेत्र /सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम/महाशिव (शिव व् शिवा:सती:पार्वती की भी आतंरिक सुरक्षा शक्ति) जिसकी आंतरिक शक्ति राशिनाम गिरिधर/ गोवर्धनधारी श्रीकृष्ण/11 शिवावतार धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/धरणीधर शेषनाग(लक्ष्मण)/मरुधर (मदिराचलधारी) कुर्मावतारी विष्णु))|| [[ विवेक ((विवेक/सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम(महाशिव)) Born (Actual) on 11-11-1975, 9.15 AM,Tuesday (मंगलवार, कार्तिक शुक्ल पक्ष अस्टमी=गोपा/गोपी/गोवर्धन/गिरिधर/गिरिधारी:इंद्रजीत अस्टमी) ११ नवम्बर विशेष दिन: राष्ट्रीय शिक्षा दिवस, नक्षत्र: धनिष्ठा, राशि: 1/2 कुम्भ, 1/2 मकर राशि और राशिनाम: गिरिधर((गोवर्धन धारी श्रीकृष्ण, मेरु:मदिराचलधारी कुर्मावतारी विष्णु, धरणीधर शेषनाग((लक्ष्मण)), धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/11th शिव अवतार)) शासकीय प्रमाणपत्र में जन्म तिथि: 1-08-1976 (तथाकथित दलित गुरु, श्री धनराज हरिजन (धंजू)द्वारा दी गयी जन्म तिथि)]]|| *******जय हिन्द ((जम्बूद्वीप=यूरेशिया=यूरोप +एशिया) या कम से कम ईरान से लेकर सिंगापुर और कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी)), जय भारत(अखंडभारत=भरतखंड=भारतवर्ष), जय श्रीराम/कृष्ण।

कूर्मावतारी समाज का कुछ कुनबा विशेष सक्रियता मेरे विरोध दिखा रहा है तो वह भी समझ ले की काली माई को विशेष रूप से प्रिय पुत्र द्वितीया का चन्द्रमा होता है जो अत्यंत ही चमकीला होता है (जिसे महादेव शिवशंकर अपने मस्तक पर धारण करते हैं) पर आप लोगों का पक्ष लेने के कारण वह द्वितीया का चन्द्रमा (पर नामतः सूर्य था) मेरे लाख शुभकामनाओं और सहायता के बावजूद अब जीवित नहीं रह सका जिनका की काली माई अथाह दुःख है और मुझे भी दुःख है और उस स्थान को आप अपने कुकृत्यों से खाली कर दिए है और उसके जिम्मेदार आप लोग और आप के समर्थक लोग ही हैं। अब ठीक से अपने कर्मों पर विचार कीजिये किशी स्थानीय, राष्ट्रीय या अंतरराष्ट्रीय राजनैतिक शक्ति का सह प्राप्त कर ज्यादा उछलिये नहीं अपने कर्मों पर प्रायश्चित कीजिये और सद्कर्म कीजिये। >>>>>>>>>>> विवेक/त्रयम्बक/त्रिनेत्र/त्रिलोचन (शिव और शिवा:सती:पारवती की आतंरिक सुरक्षा शक्ति) ((बस्ती जनपद से आकर रामापुर-223225 (आजमगढ़ स्थित) समेत 5 गाँव ((ओरिल: रामापुर (500 बीघा मूल क्षेत्र) +गुमकोठी+बागबहार+लग्गुपुर+औराडार)) को एक मुस्लिम(इस्लाम अनुयायी क्षत्रिय परिवार) जागीरदार से दान में पाये सनातन कश्यप गोत्रीय त्रिफला(बेलपत्र: बिल्वपत्र:शिव और शिवा का आभूषण/आहार/अरपणेय/अर्पण्य/अस्तित्व रहा तो स्वयं शिव बना) पाण्डेय ब्राह्मण बाबा सारंगधर:चंद्रशेखर:महादेव:शिव कुल के देवव्रत(गंगापुत्र)/.../रामप्रसाद/बचनराम(बेचनराम)/प्रदीप:सूर्यकांत:सूर्यस्वामी: आदित्यनाथ:सत्यनारायण: रामजानकी:रामा का पुत्र और गोरखपुर/गोरक्षपुर से आकर बिशुनपुर-223103 (जौनपुर स्थित) जैसे मूलतः 300 बीघे के एक गाँव को एक क्षत्रिय जागीरदार से दान में पाये सनातन गौतम गोत्रीय व्याशी(वशिष्ठ कुल के व्यासः से व्याशी तो कश्यप का गुरु हो सकता है) मिश्रा ब्राह्मण निवाजी बाबा के रामानंद/----/रामप्रसाद/ रमानाथ:विष्णु (+पारसनाथ:शिव)/श्रीकांत(+श्रीधर:विष्णु+श्रीप्रकाश) कुल का नाती, विवेक(सरस्वती का ज्येष्ठ मानस पुत्र)/त्रयम्बक/त्रिलोचन/त्रिनेत्र /सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम/महाशिव (शिव व् शिवा:सती:पार्वती की भी आतंरिक सुरक्षा शक्ति) जिसकी आंतरिक शक्ति राशिनाम गिरिधर/ गोवर्धनधारी श्रीकृष्ण/11 शिवावतार धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/धरणीधर शेषनाग(लक्ष्मण)/मरुधर (मदिराचलधारी) कुर्मावतारी विष्णु))|| [[ विवेक ((विवेक/सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम(महाशिव)) Born (Actual) on 11-11-1975, 9.15 AM,Tuesday (मंगलवार, कार्तिक शुक्ल पक्ष अस्टमी=गोपा/गोपी/गोवर्धन/गिरिधर/गिरिधारी:इंद्रजीत अस्टमी) ११ नवम्बर विशेष दिन: राष्ट्रीय शिक्षा दिवस, नक्षत्र: धनिष्ठा, राशि: 1/2 कुम्भ, 1/2 मकर राशि और राशिनाम: गिरिधर((गोवर्धन धारी श्रीकृष्ण, मेरु:मदिराचलधारी कुर्मावतारी विष्णु, धरणीधर शेषनाग((लक्ष्मण)), धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/11th शिव अवतार)) शासकीय प्रमाणपत्र में जन्म तिथि: 1-08-1976 (तथाकथित दलित गुरु, श्री धनराज हरिजन (धंजू)द्वारा दी गयी जन्म तिथि)]]|| *******जय हिन्द ((जम्बूद्वीप=यूरेशिया=यूरोप +एशिया) या कम से कम ईरान से लेकर सिंगापुर और कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी)), जय भारत(अखंडभारत=भरतखंड=भारतवर्ष), जय श्रीराम/कृष्ण।

वह पंडित रमानाथ:विष्णु जी जो प्रयागराज के सभी गुरुकुल प्रणाली से चलने वाले गुरुकुल समूह में प्रथम स्थान प्राप्त संस्कृत विषय (व्याकरण शास्त्र) के अभीष्ट विद्वान थे और जो सप्ताह में केवल रविवार तो दाढी (बाल) बनवाते थे और सोमवार को विद्यलाय में अपने शिष्यों के सप्ताह भर के कार्यों की सुधि लेते थे मैं उस दाढ़ी वाले पंडित जी की बातों/दिशानिर्देशों का अपनी पूरी कोशिस से अक्षर सह पालन करने वाला नाती हूँ और जिस आधुनिकतम से पुरातन समाज के समारोह या मिलन में गया हूँ वहाँ भी उनके निर्देशों का पूर्णतः पालन करने का प्रयास करते हुए व्यवहारिक तौर पर उस सामाजिक स्तर पर एक उच्चतम ब्राह्मण चरित्र का निर्वहन किया हूँ। लेकिन इस तथ्य से इनकार नहीं किया सकता की मेरे लिए जो आधार निर्धारित किये गए उनका मैं हृदय से सम्मान करता हूँ और उनमे से जो आधार मेरे लिए परोक्ष सेवारत और आस्थागत रहे और आज भी हैं उनको मैं अपने से अलग भी नहीं समझ सकता पर जो चुनौती दिया उसकी हर प्रकार से हार हुई और वह मेरे योग्य नहीं रहा और यह की वः मेरा सामना भी इस जन्म नहीं कर सकता औरजो मेरा सामना किया और मेरा साथ दिया मेरा ही है और हमेशा मेरा ही रहेगा। >>>>>>>>अगर सृष्टि सुरक्षित रही और इस सृष्टि की ओट में यह संसार सुरक्षित रहा 2001 से मेरे प्रयागराज में रूक जाने से तो वह सृष्टि स्वयं सीता ही है जो जगत जननी है और जननी जगदम्बा का ही सामाजिक स्वरुप है जिसने इस वर्तमान संसार को नवजीवन/जीवन दिया।>>>>>विष्णु आस्था में नामित गाँव बिशुनपुर-223103 जिनके इष्टदेव महादेव शिवशंकर है तो वह शिवशंकर मैं ही हूँ और यह मेरा ननिहाल रहा और रामानंद (रामप्रसाद/रमानाथ/श्रीकांत+श्रीधर:विष्णु+श्रीप्रकाश) कुल का आश्रित था तो कृष्ण भी मैं ही हूँ, और रामजानकी(=रामा=सीता (सृष्टि) वह एक मात्र नाम जो राम के नाम से ही लिया जाय मतलब राम और सीता दोनों का बोध हो) की आश्था में नामित गाँव रामापुर-223225 से मूलतः सम्बंधित हूँ जिनकी कुलदेवी देवकाली (महासरस्वती+महालक्ष्मी+ महागौरी :पारवती :उमा:गिरिजा:अपर्णा मतलब तेजोमय देवी दुर्गा स्वरुप जिसमे वे दुष्टो पर कुपित हो अपनी ही ऊर्जा से काली पड़ गयी हो) है तो मैं उस गाँव में सारंगधर/चंद्रशेखर/महादेव कुल के देवीव्रत/.../रामप्रशाद/बेचनराम/प्रदीप=सूर्यकांत=रविकांत=सुर्यस्वामी=आदित्यनाथ/सत्यनारायण/रामजानकी/रामा कुल से हूँ तो इस हेतु मैं राम स्वयं हूँ और इस प्रकार शिवरामकृष्ण=श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम=राम=महाशिव स्वयं हूँ। >>>>>>>>>>>>> विवेक/त्रयम्बक/त्रिनेत्र/त्रिलोचन (शिव और शिवा:सती:पारवती की आतंरिक सुरक्षा शक्ति) ((बस्ती जनपद से आकर रामापुर-223225 (आजमगढ़ स्थित) समेत 5 गाँव ((ओरिल: रामापुर (500 बीघा मूल क्षेत्र) +गुमकोठी+बागबहार+लग्गुपुर+औराडार)) को एक मुस्लिम(इस्लाम अनुयायी क्षत्रिय परिवार) जागीरदार से दान में पाये सनातन कश्यप गोत्रीय त्रिफला(बेलपत्र: बिल्वपत्र:शिव और शिवा का आभूषण/आहार/अरपणेय/अर्पण्य/अस्तित्व रहा तो स्वयं शिव बना) पाण्डेय ब्राह्मण बाबा सारंगधर:चंद्रशेखर:महादेव:शिव कुल के देवव्रत(गंगापुत्र)/.../रामप्रसाद/बचनराम(बेचनराम)/प्रदीप:सूर्यकांत:सूर्यस्वामी: आदित्यनाथ:सत्यनारायण: रामजानकी:रामा का पुत्र और गोरखपुर/गोरक्षपुर से आकर बिशुनपुर-223103 (जौनपुर स्थित) जैसे मूलतः 300 बीघे के एक गाँव को एक क्षत्रिय जागीरदार से दान में पाये सनातन गौतम गोत्रीय व्याशी(वशिष्ठ कुल के व्यासः से व्याशी तो कश्यप का गुरु हो सकता है) मिश्रा ब्राह्मण निवाजी बाबा के रामानंद/----/रामप्रसाद/ रमानाथ:विष्णु (+पारसनाथ:शिव)/श्रीकांत(+श्रीधर:विष्णु+श्रीप्रकाश) कुल का नाती, विवेक(सरस्वती का ज्येष्ठ मानस पुत्र)/त्रयम्बक/त्रिलोचन/त्रिनेत्र /सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम/महाशिव (शिव व् शिवा:सती:पार्वती की भी आतंरिक सुरक्षा शक्ति) जिसकी आंतरिक शक्ति राशिनाम गिरिधर/ गोवर्धनधारी श्रीकृष्ण/11 शिवावतार धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/धरणीधर शेषनाग(लक्ष्मण)/मरुधर (मदिराचलधारी) कुर्मावतारी विष्णु))|| [[ विवेक ((विवेक/सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम(महाशिव)) Born (Actual) on 11-11-1975, 9.15 AM,Tuesday (मंगलवार, कार्तिक शुक्ल पक्ष अस्टमी=गोपा/गोपी/गोवर्धन/गिरिधर/गिरिधारी:इंद्रजीत अस्टमी) ११ नवम्बर विशेष दिन: राष्ट्रीय शिक्षा दिवस, नक्षत्र: धनिष्ठा, राशि: 1/2 कुम्भ, 1/2 मकर राशि और राशिनाम: गिरिधर((गोवर्धन धारी श्रीकृष्ण, मेरु:मदिराचलधारी कुर्मावतारी विष्णु, धरणीधर शेषनाग((लक्ष्मण)), धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/11th शिव अवतार)) शासकीय प्रमाणपत्र में जन्म तिथि: 1-08-1976 (तथाकथित दलित गुरु, श्री धनराज हरिजन (धंजू)द्वारा दी गयी जन्म तिथि)]]|| *******जय हिन्द ((जम्बूद्वीप=यूरेशिया=यूरोप +एशिया) या कम से कम ईरान से लेकर सिंगापुर और कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी)), जय भारत(अखंडभारत=भरतखंड=भारतवर्ष), जय श्रीराम/कृष्ण।

वह पंडित रमानाथ:विष्णु जी जो प्रयागराज के सभी गुरुकुल प्रणाली से चलने वाले गुरुकुल समूह में प्रथम स्थान प्राप्त संस्कृत विषय (व्याकरण शास्त्र) के अभीष्ट विद्वान थे और जो सप्ताह में केवल रविवार तो दाढी (बाल) बनवाते थे और सोमवार को विद्यलाय में अपने शिष्यों के सप्ताह भर के कार्यों की सुधि लेते थे मैं उस दाढ़ी वाले पंडित जी की बातों/दिशानिर्देशों का अपनी पूरी कोशिस से अक्षर सह पालन करने वाला नाती हूँ और जिस आधुनिकतम से पुरातन समाज के समारोह या मिलन में गया हूँ वहाँ भी उनके निर्देशों का पूर्णतः पालन करने का प्रयास करते हुए व्यवहारिक तौर पर उस सामाजिक स्तर पर एक उच्चतम ब्राह्मण चरित्र का निर्वहन किया हूँ। लेकिन इस तथ्य से इनकार नहीं किया सकता की मेरे लिए जो आधार निर्धारित किये गए उनका मैं हृदय से सम्मान करता हूँ और उनमे से जो आधार मेरे लिए परोक्ष सेवारत और आस्थागत रहे और आज भी हैं उनको मैं अपने से अलग भी नहीं समझ सकता पर जो चुनौती दिया उसकी हर प्रकार से हार हुई और वह मेरे योग्य नहीं रहा और यह की वः मेरा सामना भी इस जन्म नहीं कर सकता औरजो मेरा सामना किया और मेरा साथ दिया मेरा ही है और हमेशा मेरा ही रहेगा। >>>>>>>>अगर सृष्टि सुरक्षित रही और इस सृष्टि की ओट में यह संसार सुरक्षित रहा 2001 से मेरे प्रयागराज में रूक जाने से तो वह सृष्टि स्वयं सीता ही है जो जगत जननी है और जननी जगदम्बा का ही सामाजिक स्वरुप है जिसने इस वर्तमान संसार को नवजीवन/जीवन दिया।>>>>>विष्णु आस्था में नामित गाँव बिशुनपुर-223103 जिनके इष्टदेव महादेव शिवशंकर है तो वह शिवशंकर मैं ही हूँ और यह मेरा ननिहाल रहा और रामानंद (रामप्रसाद/रमानाथ/श्रीकांत+श्रीधर:विष्णु+श्रीप्रकाश) कुल का आश्रित था तो कृष्ण भी मैं ही हूँ, और रामजानकी(=रामा=सीता (सृष्टि) वह एक मात्र नाम जो राम के नाम से ही लिया जाय मतलब राम और सीता दोनों का बोध हो) की आश्था में नामित गाँव रामापुर-223225 से मूलतः सम्बंधित हूँ जिनकी कुलदेवी देवकाली (महासरस्वती+महालक्ष्मी+ महागौरी :पारवती :उमा:गिरिजा:अपर्णा मतलब तेजोमय देवी दुर्गा स्वरुप जिसमे वे दुष्टो पर कुपित हो अपनी ही ऊर्जा से काली पड़ गयी हो) है तो मैं उस गाँव में सारंगधर/चंद्रशेखर/महादेव कुल के देवीव्रत/.../रामप्रशाद/बेचनराम/प्रदीप=सूर्यकांत=रविकांत=सुर्यस्वामी=आदित्यनाथ/सत्यनारायण/रामजानकी/रामा कुल से हूँ तो इस हेतु मैं राम स्वयं हूँ और इस प्रकार शिवरामकृष्ण=श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम=राम=महाशिव स्वयं हूँ। >>>>>>>>>>>>> विवेक/त्रयम्बक/त्रिनेत्र/त्रिलोचन (शिव और शिवा:सती:पारवती की आतंरिक सुरक्षा शक्ति) ((बस्ती जनपद से आकर रामापुर-223225 (आजमगढ़ स्थित) समेत 5 गाँव ((ओरिल: रामापुर (500 बीघा मूल क्षेत्र) +गुमकोठी+बागबहार+लग्गुपुर+औराडार)) को एक मुस्लिम(इस्लाम अनुयायी क्षत्रिय परिवार) जागीरदार से दान में पाये सनातन कश्यप गोत्रीय त्रिफला(बेलपत्र: बिल्वपत्र:शिव और शिवा का आभूषण/आहार/अरपणेय/अर्पण्य/अस्तित्व रहा तो स्वयं शिव बना) पाण्डेय ब्राह्मण बाबा सारंगधर:चंद्रशेखर:महादेव:शिव कुल के देवव्रत(गंगापुत्र)/.../रामप्रसाद/बचनराम(बेचनराम)/प्रदीप:सूर्यकांत:सूर्यस्वामी: आदित्यनाथ:सत्यनारायण: रामजानकी:रामा का पुत्र और गोरखपुर/गोरक्षपुर से आकर बिशुनपुर-223103 (जौनपुर स्थित) जैसे मूलतः 300 बीघे के एक गाँव को एक क्षत्रिय जागीरदार से दान में पाये सनातन गौतम गोत्रीय व्याशी(वशिष्ठ कुल के व्यासः से व्याशी तो कश्यप का गुरु हो सकता है) मिश्रा ब्राह्मण निवाजी बाबा के रामानंद/----/रामप्रसाद/ रमानाथ:विष्णु (+पारसनाथ:शिव)/श्रीकांत(+श्रीधर:विष्णु+श्रीप्रकाश) कुल का नाती, विवेक(सरस्वती का ज्येष्ठ मानस पुत्र)/त्रयम्बक/त्रिलोचन/त्रिनेत्र /सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम/महाशिव (शिव व् शिवा:सती:पार्वती की भी आतंरिक सुरक्षा शक्ति) जिसकी आंतरिक शक्ति राशिनाम गिरिधर/ गोवर्धनधारी श्रीकृष्ण/11 शिवावतार धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/धरणीधर शेषनाग(लक्ष्मण)/मरुधर (मदिराचलधारी) कुर्मावतारी विष्णु))|| [[ विवेक ((विवेक/सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम(महाशिव)) Born (Actual) on 11-11-1975, 9.15 AM,Tuesday (मंगलवार, कार्तिक शुक्ल पक्ष अस्टमी=गोपा/गोपी/गोवर्धन/गिरिधर/गिरिधारी:इंद्रजीत अस्टमी) ११ नवम्बर विशेष दिन: राष्ट्रीय शिक्षा दिवस, नक्षत्र: धनिष्ठा, राशि: 1/2 कुम्भ, 1/2 मकर राशि और राशिनाम: गिरिधर((गोवर्धन धारी श्रीकृष्ण, मेरु:मदिराचलधारी कुर्मावतारी विष्णु, धरणीधर शेषनाग((लक्ष्मण)), धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/11th शिव अवतार)) शासकीय प्रमाणपत्र में जन्म तिथि: 1-08-1976 (तथाकथित दलित गुरु, श्री धनराज हरिजन (धंजू)द्वारा दी गयी जन्म तिथि)]]|| *******जय हिन्द ((जम्बूद्वीप=यूरेशिया=यूरोप +एशिया) या कम से कम ईरान से लेकर सिंगापुर और कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी)), जय भारत(अखंडभारत=भरतखंड=भारतवर्ष), जय श्रीराम/कृष्ण।

Monday, August 22, 2016

इतनी मेरिट/मेधा, इंटेलिजेंसी/कुशाग्रता और क्षमता/धारण शक्ति जरूर है मुझमे की यह दुनिया कम से कम 2001 से टिकी है मतलब यह सृष्टि जो 2001 में ही समाप्त हो सकती थी वह अब भी पूर्व की तरह अनवरत चल रही है (अज्ञान लोगों के सन्दर्भ में बहुत फल फूल रही है पर वास्तविकता यह है की मानवीय स्वभाव इतना संकुचित होता जा रहा है की यह आज भी क्षरण की और अग्रसर है)। कोई भी मेरिट/मेधा, इंटेलिजेंसी/कुशाग्रता और उद्यमशील व्यक्ति अपने पर गुमान तभी तक कर सकता है जब तक की वह इस सृष्टि के साथ सुरक्षित है तो अब आप उसके भी मेरिट/मेधा, इंटेलिजेंसी/कुशाग्रता, क्षमता/धारणशक्ति, पुरुषार्थ और सामर्थ्य की भी परिकल्पना कभी कर लीजिये जिसकी वजह से आप का स्वयं का भौतिक अस्तित्व कायम है और आप कार्य अवसर पाकर अपने किये और मेरिट/मेधा, इंटेलिजेंसी/कुशाग्रता पर गुमान किये हुए हैं ।>>>>>>>>>>>>> विवेक/त्रयम्बक/त्रिनेत्र/त्रिलोचन (शिव और शिवा:सती:पारवती की आतंरिक सुरक्षा शक्ति) ((बस्ती जनपद से आकर रामापुर-223225 (आजमगढ़ स्थित) समेत 5 गाँव ((ओरिल: रामापुर (500 बीघा मूल क्षेत्र) +गुमकोठी+बागबहार+लग्गुपुर+औराडार)) को एक मुस्लिम(इस्लाम अनुयायी क्षत्रिय परिवार) जागीरदार से दान में पाये सनातन कश्यप गोत्रीय त्रिफला(बेलपत्र: बिल्वपत्र:शिव और शिवा का आभूषण/आहार/अरपणेय/अर्पण्य/अस्तित्व रहा तो स्वयं शिव बना) पाण्डेय ब्राह्मण बाबा सारंगधर:चंद्रशेखर:महादेव:शिव कुल के देवव्रत(गंगापुत्र)/.../रामप्रसाद/बचनराम(बेचनराम)/प्रदीप:सूर्यकांत:सूर्यस्वामी: आदित्यनाथ:सत्यनारायण: रामजानकी:रामा का पुत्र और गोरखपुर/गोरक्षपुर से आकर बिशुनपुर-223103 (जौनपुर स्थित) जैसे मूलतः 300 बीघे के एक गाँव को एक क्षत्रिय जागीरदार से दान में पाये सनातन गौतम गोत्रीय व्याशी(वशिष्ठ कुल के व्यासः से व्याशी तो कश्यप का गुरु हो सकता है) मिश्रा ब्राह्मण निवाजी बाबा के रामानंद/----/रामप्रसाद/ रमानाथ:विष्णु (+पारसनाथ:शिव)/श्रीकांत(+श्रीधर:विष्णु+श्रीप्रकाश) कुल का नाती, विवेक(सरस्वती का ज्येष्ठ मानस पुत्र)/त्रयम्बक/त्रिलोचन/त्रिनेत्र /सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम/महाशिव (शिव व् शिवा:सती:पार्वती की भी आतंरिक सुरक्षा शक्ति) जिसकी आंतरिक शक्ति राशिनाम गिरिधर/ गोवर्धनधारी श्रीकृष्ण/11 शिवावतार धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/धरणीधर शेषनाग(लक्ष्मण)/मरुधर (मदिराचलधारी) कुर्मावतारी विष्णु))|| [[ विवेक ((विवेक/सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम(महाशिव)) Born (Actual) on 11-11-1975, 9.15 AM,Tuesday (मंगलवार, कार्तिक शुक्ल पक्ष अस्टमी=गोपा/गोपी/गोवर्धन/गिरिधर/गिरिधारी:इंद्रजीत अस्टमी) ११ नवम्बर विशेष दिन: राष्ट्रीय शिक्षा दिवस, नक्षत्र: धनिष्ठा, राशि: 1/2 कुम्भ, 1/2 मकर राशि और राशिनाम: गिरिधर((गोवर्धन धारी श्रीकृष्ण, मेरु:मदिराचलधारी कुर्मावतारी विष्णु, धरणीधर शेषनाग((लक्ष्मण)), धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/11th शिव अवतार)) शासकीय प्रमाणपत्र में जन्म तिथि: 1-08-1976 (तथाकथित दलित गुरु, श्री धनराज हरिजन (धंजू)द्वारा दी गयी जन्म तिथि)]]|| *******जय हिन्द ((जम्बूद्वीप=यूरेशिया=यूरोप +एशिया) या कम से कम ईरान से लेकर सिंगापुर और कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी)), जय भारत(अखंडभारत=भरतखंड=भारतवर्ष), जय श्रीराम/कृष्ण।

इतनी मेरिट/मेधा, इंटेलिजेंसी/कुशाग्रता और क्षमता/धारण शक्ति जरूर है मुझमे की यह दुनिया कम से कम 2001 से टिकी है मतलब यह सृष्टि जो 2001 में ही समाप्त हो सकती थी वह अब भी पूर्व की तरह अनवरत चल रही है (अज्ञान लोगों के सन्दर्भ में बहुत फल फूल रही है पर वास्तविकता यह है की मानवीय स्वभाव इतना संकुचित होता जा रहा है की यह आज भी क्षरण की और अग्रसर है)। कोई भी मेरिट/मेधा, इंटेलिजेंसी/कुशाग्रता और उद्यमशील व्यक्ति अपने पर गुमान तभी तक कर सकता है जब तक की वह इस सृष्टि के साथ सुरक्षित है तो अब आप उसके भी मेरिट/मेधा, इंटेलिजेंसी/कुशाग्रता, क्षमता/धारणशक्ति, पुरुषार्थ और सामर्थ्य की भी परिकल्पना कभी कर लीजिये जिसकी वजह से आप का स्वयं का भौतिक अस्तित्व कायम है और आप कार्य अवसर पाकर अपने किये और मेरिट/मेधा, इंटेलिजेंसी/कुशाग्रता पर गुमान किये हुए हैं ।>>>>>>>>>>>>> विवेक/त्रयम्बक/त्रिनेत्र/त्रिलोचन (शिव और शिवा:सती:पारवती की आतंरिक सुरक्षा शक्ति) ((बस्ती जनपद से आकर रामापुर-223225 (आजमगढ़ स्थित) समेत 5 गाँव ((ओरिल: रामापुर (500 बीघा मूल क्षेत्र) +गुमकोठी+बागबहार+लग्गुपुर+औराडार)) को एक मुस्लिम(इस्लाम अनुयायी क्षत्रिय परिवार) जागीरदार से दान में पाये सनातन कश्यप गोत्रीय त्रिफला(बेलपत्र: बिल्वपत्र:शिव और शिवा का आभूषण/आहार/अरपणेय/अर्पण्य/अस्तित्व रहा तो स्वयं शिव बना) पाण्डेय ब्राह्मण बाबा सारंगधर:चंद्रशेखर:महादेव:शिव कुल के देवव्रत(गंगापुत्र)/.../रामप्रसाद/बचनराम(बेचनराम)/प्रदीप:सूर्यकांत:सूर्यस्वामी: आदित्यनाथ:सत्यनारायण: रामजानकी:रामा का पुत्र और गोरखपुर/गोरक्षपुर से आकर बिशुनपुर-223103 (जौनपुर स्थित) जैसे मूलतः 300 बीघे के एक गाँव को एक क्षत्रिय जागीरदार से दान में पाये सनातन गौतम गोत्रीय व्याशी(वशिष्ठ कुल के व्यासः से व्याशी तो कश्यप का गुरु हो सकता है) मिश्रा ब्राह्मण निवाजी बाबा के रामानंद/----/रामप्रसाद/ रमानाथ:विष्णु (+पारसनाथ:शिव)/श्रीकांत(+श्रीधर:विष्णु+श्रीप्रकाश) कुल का नाती, विवेक(सरस्वती का ज्येष्ठ मानस पुत्र)/त्रयम्बक/त्रिलोचन/त्रिनेत्र /सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम/महाशिव (शिव व् शिवा:सती:पार्वती की भी आतंरिक सुरक्षा शक्ति) जिसकी आंतरिक शक्ति राशिनाम गिरिधर/ गोवर्धनधारी श्रीकृष्ण/11 शिवावतार धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/धरणीधर शेषनाग(लक्ष्मण)/मरुधर (मदिराचलधारी) कुर्मावतारी विष्णु))|| [[ विवेक ((विवेक/सरस्वती का जेष्ठ मानस पुत्र/शिवरामकृष्ण/श्रीरामकृष्ण/रामकृष्ण/श्रीराम/राम(महाशिव)) Born (Actual) on 11-11-1975, 9.15 AM,Tuesday (मंगलवार, कार्तिक शुक्ल पक्ष अस्टमी=गोपा/गोपी/गोवर्धन/गिरिधर/गिरिधारी:इंद्रजीत अस्टमी) ११ नवम्बर विशेष दिन: राष्ट्रीय शिक्षा दिवस, नक्षत्र: धनिष्ठा, राशि: 1/2 कुम्भ, 1/2 मकर राशि और राशिनाम: गिरिधर((गोवर्धन धारी श्रीकृष्ण, मेरु:मदिराचलधारी कुर्मावतारी विष्णु, धरणीधर शेषनाग((लक्ष्मण)), धौलागिरी(हिमालय) धारी हनुमान/11th शिव अवतार)) शासकीय प्रमाणपत्र में जन्म तिथि: 1-08-1976 (तथाकथित दलित गुरु, श्री धनराज हरिजन (धंजू)द्वारा दी गयी जन्म तिथि)]]|| *******जय हिन्द ((जम्बूद्वीप=यूरेशिया=यूरोप +एशिया) या कम से कम ईरान से लेकर सिंगापुर और कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी)), जय भारत(अखंडभारत=भरतखंड=भारतवर्ष), जय श्रीराम/कृष्ण।